in ,

क्या भारत सरकार ने पबजी से बैन हटा दिया है?

भारत सरकार ने 2 सितंबर को सूचना और प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 ए के तहत भारत के संप्रभुता और अखंडता को खतरा बताते हुए पबजी मोबाइल और पबजी लाइट सहित 118 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया था जिसमें से पबजी गेम भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय गेमिंग ऐप था, जिसके भारत में 17.5 करोड़ डाउनलोड्स थे।

पबजी बैटल गेम ।

पबजी सहित 118 चाइनीस ऐप को बंद हुए 3 हफ्ते का समय गुजर चुका है लोग कई तरीके के कयास लगा रहे हैं कि पबजी गेम की वापसी इस महीने या अगले महीने हो जाएगी, इस बात पर कुछ दिन पहले मीडिया रिपोर्ट्स में यह खबरें आई हैं पबजी कंपनी, मुकेश अंबानी की जिओ से बातचीत कर रही है और जैसे यह डील फाइनल होगी वैसे ही भारत सरकार इस ऐप को परमिशन दे देगी।

जियो डिजिटल के मालिक मुकेश अंबानी।

इस बात को लेकर के भारत सरकार के ऊपर मुकेश अंबानी के साथ मिलीभगत का आरोप भी लगाया जा रहा था हालांकि कुछ दिन पहले मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स के अधिकारी से हुई बात को आधार बनाते हुए एक वेबसाइट ने खबर छापी की मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स अभी पबजी को लेकर किसी भी प्रकार की रियायत दिखाने के मूड में नहीं है मतलब ऑफिशियल रूप से अभी भी पबजी को लेकर के मंत्रालय में कोई नया निर्णय सामने नहीं आया है।

चीनी गेमिंग कंपनी टैंसेंट । सोर्स- इंटरनेट

हालांकि खबरें यह भी थी कि जब पबजी ने चीनी कंपनी टैंसेंट से रिश्ता तोड़ दिया है तो भारत सरकार उसे अब कुछ रियायत दे सकती है लेकिन इन सभी खबरों का खंडन करते हुए अधिकारी ने बताया कि पबजी ने अभी किसी भी प्रकार से सरकार से संपर्क नहीं किया है, मतलब यह है कि अभी भी पबजी बैकडोर से अपने आप को मजबूत और एक ठोस आधार देने में लगा हुआ है उसके बाद ही भारत सरकार से कोई विनती करेगा या किसी भी प्रकार की सिफारिश करेगा ।

मिनिस्टर आफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफार्मेशन : रविशंकर प्रसाद । सोर्स – इंटरनेट

मिनिस्ट्री के अधिकारी की ओर से आए इस बयान से यह साफ हो जाता है कि भारत सरकार ने किसी भी प्रकार से पबजी को अभी कोई रियायत नहीं दिया है और ना ही निकट भविष्य में यह संभव लग रहा है।

Written by AU Beat Media

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading…

0

11 साल पहले आज ही मिली थी इसरो को कामयाबी, चंद्रयान-1 के सफलता की कहानी

यूपीएससी की परीक्षा पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला