in

लखनऊ, इश्क़ और UPSC

लखनऊ नवाबो के शहर में नवाबी अंदाज वाली लड़की। जिसको देख के लगा था जैसे ये कहावत उसे देख के लिखी गई हो मुस्कुराइए आप लखनऊ में है।

उससे बात करके यही लगा था जैसे ये शहर अपना सारा अदब उसमे घोल दिया हो। जिसके नैन भूल भुलैया जैसे है जिसमें साला एक बार झाक लो तो महादेव की कसम वापस आना बड़ा मुश्किल है।

देखा था उसको पहली बार लखनऊ यूनिवर्सिटी के गेट पर। जहां किसी ने उसकी स्कूटी को ठोकर क्या लगा दी मानो लग रहा था जैसे बेगम हजरत महल के सामने किसी ब्रिटिश ने कोई गुस्ताख़ी कर दी हो। उन तीखे और तेज नैनो में सबको गुस्सा दिख रहा था पर मुझे उनसे इश्क हो रहा था। ऐसा लगा मेरी आंखो को एक अरसे से मानो उसकी ही तलाश थी।

मै इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का छात्र। जहां लौंडे प्यार मोहब्बत कम राजनीति और सिविल सर्विस के नशे में ज्यादा चूर रहते है। पर आज मुझे लग रहा था साला दुनिया में UPSC से भी खूबसूरत कुछ है। जिसपे आधी क्या पूरी जिंदगी कुर्बान कर सकते है। जिसका सिलेबस आसान और रोचक है। पहली बार दिल, दुआए प्री एग्जाम के लिए नही उस बला को पाने के लिए कर रहा था।

वो जाने लगी। मै बस उसे देख रहा था। और कर भी क्या सकता था। उसे बुलाता पर नहीं बुला सकता था। क्योंकि भईया वो लखनऊ था, जहां बात बात में लोग बंदूक निकाल लेते है तो लड़की के साथ ऐसा करने पे पता नही क्या करते। मै तो बस 1 दिन के काम से आया था पर अब उस शहर में पूरी उम्र गुजारने को दिल कर रहा था। दोस्त से बात की उसने बताया वो उसकी सीनियर है। दोस्त ने एक प्लेट बटर चिकन पे उससे मुलाकात कराया।

वो बातुनी थी थोड़ी। मै उसको घंटो सुनता रहता था। उसे UPSC वाले पसंद नही थे और सुंदर तो मै था नही। बस भोलेनाथ से यही मना रहा था उसके दिल में मेरी फाइल सेव करदो किसी तरह से।

5 दिन तक यूनिवर्सिटी जाता रहा , मिलता रहा, बाते करता रहा सुबह से शाम कब होती थी पता नही चलता था। उन 5 दिनों में इलाहाबाद और पढ़ाई का तनिक खयाल न था।

पर कबतक अब लौटना था। क्या करते UPSC वाले है परलोक चले जाए पर एग्जाम के वक्त वापस आना ही है। आते वक्त वो सामने खड़ी थी। दिल बहुत कुछ बोलना चाहता था पर जुबान इजाजत नही दे रही थी। कानो को भी उससे ही उम्मीद थी कुछ सुनने की। गाड़ी खड़ी थी और मै अधूरी सी मुस्कान लिए bye बोलकर ट्रेन में चढ़ गया। तभी पीछे से एक जोर की आवाज आई ओये सुन, UPSC वाले अब मेरे फेवरेट हो गए है।

✍️ Gagan Yadav

Written by AU Beat Media

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading…

0

इलाहाबाद विश्वविद्यालय और कॉलेजों के अंतिम वर्ष के 15 हजार छात्र परीक्षा देंगे

मंगल पांडे ने दलित साथी की पुकार पर छेड़ी थी आजादी की जंग, मौत के बाद भी डरते रहे अंग्रेज