in

केजरीवाल ने किया मोदी से गुहार, केंद्रीय विश्वविद्यालयों की परीक्षा रद्द कर प्रमोट करें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेटर लिखकर विश्वविद्यालयों में अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द करने की अपील की है।

केजरीवाल ने कहा है, ”यूजीसी ने विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को दिशा निर्देश दिया है कि आखिरी सेमेस्टर की लिखित ऑफलाइन या ऑनलाइन परीक्षाएं कराई जाएं। इन दिशा निर्देशों के कारण आज पूरे देश के लाखों युवाओं, अध्यापकों और अभिभावकों में बहुत रोष है। सबका मानना है कि यह निर्णय गलत है और इसे तुरंत वापस लिया जाना चाहिए।”

प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि वे यूजीसी और केन्द्रीय विश्वविद्यालयों को निर्देश दें कि वे आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अपने छात्रों को डिग्री प्रदान करें जिससे वे अपने भविष्य की योजनाओं को आगे बढ़ा सकें।

Tweet Of Arvind Kejriwal, CM, Delhi

अरविंद केजरीवाल ने लिखा है कि जब आईआईटी जैसे उच्चस्तरीय शिक्षण संस्थानों ने भी अपने छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अंतिम वर्ष के छात्रों को डिग्री प्रदान कर दी है तो अन्य विश्वविद्यालयों को इसी तरह की प्रक्रिया अपनाने में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। इसी तरह के उपाय दुनिया के कई अन्य देशों के शिक्षण संस्थाओं ने भी अपनाया है। 

मनीष सिसोदिया प्रेसवार्ता के दौरान

दिल्ली में सभी यूनिवर्सिटीज की परीक्षा रद्द:

शनिवार को ही दिल्ली के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली सरकार के इस फैसले की जानकारी दी और कहा कि अब दिल्ली सरकार के अधीन आने वाले विश्वविद्यालयों में कोई परीक्षा नहीं ली जाएगी। अंतिम वर्ष के छात्रों को भी उनके पिछले सेमेस्टर या पहले, दूसरे साल के अंकों के आधार पर अंक दे दिए जाएंगे। इसके आधार पर उन्हें डिग्री भी प्रदान कर दी जाएगी जिससे वे अपनी भविष्य की योजनाओं को आगे बढ़ा सकें। 

राहुल गांधी

राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने जताई आपत्ति:

इस मामले पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना महामारी के मद्देनजर यूजीसी को परीक्षाएं रद्द कर स्टूटेंट्स को उनके पिछले प्रदर्शन के आधार पर अगले शैक्षणिक सत्र के लिए प्रमोट कर देना चाहिए।

UGC ने 30 सितंबर तक एग्‍जाम कराने के दिए हैं निर्देश:

दिल्ली सरकार का यह निर्णय केवल दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले विश्वविद्यालयों पर लागू होगा। दिल्ली के अन्य विश्वविद्यालयों, जैसे जेएनयू जामिया दिल्ली दिल्ली विश्वविद्यालय आदि पर इस फैसले का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के मुताबिक, देशभर के विभिन्न केंद्रीय विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में होने वाली सेमेस्टर परीक्षाएं 30 सितंबर तक पूरी करवाई जानी हैं। प्रत्येक क्षेत्र एवं राज्य की परिस्थितियों के अनुसार ये परीक्षाएं ऑनलाइन या ऑफलाइन करवाई जा सकेगी। यूजीसी ने इस बारे में सभी विश्वविद्यालयों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

Written by AU Beat Media

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading…

0

प्रयागराज के बक्सी बांध पर दरोगा के बेटों ने दोस्तों संग किशोरी के साथ किया सामुहिक दुष्कर्म

यूपी के विश्वविद्यालयों में अक्टूबर से शुरू होंगी ऑनलाइन क्लास