in

ये राग इलाहाबाद है

ये राग इलाहाबाद है
ये अलाप इलाहाबाद है
ये रंग इलाहाबाद है
ये छाँव इलाहाबाद है
है क्या शुष्क इलाहाबाद ये
या है मुश्क इलाहाबाद ये
नित्य रोज़ इलाहाबाद ये
अपार समेटे है
असँख्य समेटे है
कलरव भी इलाहाबाद है
आँसू भी इलाहाबाद है
दिल जान इलाहाबाद है
दिल में इलाहाबाद है
ये अब चाँद इलाहाबाद है
ये अब दीपक इलाहाबाद है
होली भी इलाहाबाद अब
दीवाली भी इलाहाबाद अब
ईद भी इलाहाबाद अब
बहुत कुछ इलाहाबाद अब
संगम भी इलाहाबाद अब
कटरा भी इलाहाबाद अब
तू माने या ना माने
हर जँहा इलाहाबाद अब

: Anu Pam Jaiswal

Written by AU Beat Media

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading…

0

ये ‘इलाहाबाद’ है, ये ‘प्रयाग’ है

इलाहाबाद का नगर-देवता जरूर कोई रोमांटिक कलाकार है